कबीर दास

कबीर आरती

जय जय सत्य कबीर आरती


सत्यनाम सतसुकृत, सत रत हटकामी।
विगत कलेश सत धामी, त्रिभुवन पति स्वामी ॥ १ ॥
कमल पत्र पर शोभित, शोभाजित कैसे।
नीलाचल पर राजित, मुक्तामणी जैसे ॥ २ ॥
जयती जयती कबीरं, नाशक भवभीरं । धारयो मनुज शरीरं, शिशुवर सरतीरं ॥ ३ ॥
परम मनोहर रूपं, प्रभुदित सुखराशी
अति अभिनव अविनाशी, काशीपुरवासी ॥ ४ ॥
हंस उबारन कारन, प्रगटे तनधारी।
पारख रूप विहारी, अविचल अविकारी ॥ ५ ॥
साहेब कबीर की आरती, अगनित अघारी।
धरमदास बलिहारी, मुध मंगल कारी ॥ ६ ॥
साहेब कबीरकी आरती, जो कोई गावे।
भक्ति (मुक्ति) पदारथ पावे, भव में नहीं आवे ॥ ७ ॥


हे पण वाचा: संत कबीर संपूर्ण माहिती



शेतमालाची मोफत जाहिरात करण्यासाठी कृषी क्रांती ला अवश्य भेट द्या

Leave a Comment

Your email address will not be published.